गुरुवार, 20 जनवरी 2011

अभिशप्त

झुठ ही कहा किसी ने , जय हो जग में
जले जहाँ भी ,नमन पुनीत अनल को
आह मैं अभिशप्त ,यह धवंस -अवशेष मेरे ही अंश
इस भस्म राशी  में छिपा कलुषित श्राप
मेरे जलने का कुफल ,पुण्य हो या दुष्पाप
क्या सत्य कहा था भगवान ने 'मुख्य है करता हृदय की भावना '
जल आज अपनी आग में ,मैं चली किसी गहन गुहा
देह रक्तरंजित मन अशांत ,आह मेरा महाविनाश
मेरा ज्वलनशील  कर्मप्रधान
मैं पराधीन ,अभिशप्त,निरुपाय
मेरी  ममता पर हँस रही धरा
हँस पड़ा ये गगन ,शून्य लोक आज !!!

2 टिप्‍पणियां:

  1. bhaashaa bahuta hi sundar hai............baat bhi sateek......................

    एक निवेदन...............सहयोग की आशा के साथ.......

    मैं वृक्ष हूँ। वही वृक्ष, जो मार्ग की शोभा बढ़ाता है, पथिकों को गर्मी से राहत देता है तथा सभी प्राणियों के लिये प्राणवायु का संचार करता है। वर्तमान में हमारे समक्ष अस्तित्व का संकट उपस्थित है। हमारी अनेक प्रजातियाँ लुप्त हो चुकी हैं तथा अनेक लुप्त होने के कगार पर हैं। दैनंदिन हमारी संख्या घटती जा रही है। हम मानवता के अभिन्न मित्र हैं। मात्र मानव ही नहीं अपितु समस्त पर्यावरण प्रत्यक्षतः अथवा परोक्षतः मुझसे सम्बद्ध है। चूंकि आप मानव हैं, इस धरा पर अवस्थित सबसे बुद्धिमान् प्राणी हैं, अतः आपसे विनम्र निवेदन है कि हमारी रक्षा के लिये, हमारी प्रजातियों के संवर्द्धन, पुष्पन, पल्लवन एवं संरक्षण के लिये एक कदम बढ़ायें। वृक्षारोपण करें। प्रत्येक मांगलिक अवसर यथा जन्मदिन, विवाह, सन्तानप्राप्ति आदि पर एक वृक्ष अवश्य रोपें तथा उसकी देखभाल करें। एक-एक पग से मार्ग बनता है, एक-एक वृक्ष से वन, एक-एक बिन्दु से सागर, अतः आपका एक कदम हमारे संरक्षण के लिये अति महत्त्वपूर्ण है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. डॉ. दिव्या श्रीवास्तव ने विवाह की वर्षगाँठ के अवसर पर किया पौधारोपण
    डॉ. दिव्या श्रीवास्तव जी ने विवाह की वर्षगाँठ के अवसर पर तुलसी एवं गुलाब का रोपण किया है। उनका यह महत्त्वपूर्ण योगदान उनके प्रकृति के प्रति संवेदनशीलता, जागरूकता एवं समर्पण को दर्शाता है। वे एक सक्रिय ब्लॉग लेखिका, एक डॉक्टर, के साथ- साथ प्रकृति-संरक्षण के पुनीत कार्य के प्रति भी समर्पित हैं।
    “वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर” एवं पूरे ब्लॉग परिवार की ओर से दिव्या जी एवं समीर जीको स्वाभिमान, सुख, शान्ति, स्वास्थ्य एवं समृद्धि के पञ्चामृत से पूरित मधुर एवं प्रेममय वैवाहिक जीवन के लिये हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं